विश्वकर्मा पूजन दिवस पर शासकीय अवकाश घोषित किये जाने की मांग को लेकर सौंपा गया ज्ञापन

damoh vishwakarma samaj sangthan

दमोह। सोमवार के दिन विश्वकर्मा समाज संगठन मध्य प्रदेश विश्वकर्मा समाज प्रदेश अध्यक्ष के आह्वान पर कार्यालय कलेक्टर दमोह में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम ज्ञापन सौंपा गया।जिसमें जिला विश्वकर्मा समाज संगठन के पदाधिकारियों ने 17 सितंबर विश्वकर्मा पूजन दिवस पर शासकीय अवकाश घोषित किये जाने की मांग की है। 

जिला विश्वकर्मा समाज की मांग है स्वरूप कहना है की इस दिन सृष्टि के सृजनहार देव शिल्पी भगवान विश्वकर्मा का पूजन सम्पूर्ण देश मे विश्वकर्मा वंशज के अलावा अन्य समाज के द्वारा भी वृहद स्तर पर किया जाता है। और पूजन, अनुष्ठान , शोभायात्रा,मूर्ति स्थापना कर धार्मिक आयोजन किये जाते हैं भारतवर्ष में सभी लोग मशीनों, औजारों के अलावा कल कारखानों व यंत्रों का इसी दिन पूजन करते है। यही कारण है की 17 सितंबर विश्वकर्मा पूजन दिवस पर शासकीय अवकाश घोषित किया जाए।

damoh vishwakarma samaj sangthan

विश्वकर्मा समाज के द्वारा ज्ञापन सौपे जाने के दौरान वरिष्ठ जन,समाजसेवी प्रमोद विश्वकर्मा लालचंद विश्वकर्मा श्याम विश्वकर्मा वीरेन्द्र विश्वकर्मा अभिषेक विश्वकर्मा अजय विश्वकर्मा,पवन विश्वकर्मा, हिमांशु विश्वकर्मा,ओम विश्वकर्मा, अमित विश्वकर्मा,सौरभ विश्वकर्मा, राजेश विश्वकर्मा आदि के साथ बड़ी संख्या मै स्वजातीय बंधुओं की उपस्थिति रहे एवं अन्य सामाजिक पदाधिकारी उपस्थिति रही।

वर्षो से की जा रही मांग:

ज्ञापन पत्र में भगवान विश्वकर्मा का वेदों एवं हिन्दू पांचांग के माध्यम से अवतरण दिवस माघशुदी तिथि 13 शुक्ल पक्ष को मनाया जाता है,को भी एच्छिक अवकाश घोषित कोई जाने लेख किया है। इसके अलावा यह भी दर्शाया है कि विश्वकर्मा पूजन दिवस पर शासकीय अवकाश की मांग पूरे देश मे 15 करोड़ विश्वकर्मा वंशज व प्रायः सभी हिन्दू सम्प्रदाय के लोग अनेक वर्षों से करते चले आ रहे हैं। 

संगठन ने सरकारों से विशेष आग्रह करते हुये लेख किया है कि देश की इतनी बड़ी आबादी 10 करोड़ इंजीनियर्स,आविष्कारक,कला -कौशल के ज्ञाता ,अधिकारी- कर्मचारी एवं 50 करोड़ भारतीय संस्कृति व सनातन धर्म के अनुयायी 17 सितंबर को विशेष अनुष्ठान करते हैं। ऐसी स्थिति में देश की लगभग आधी आबादी की माँग को प्राथमिकता के आधार पर त्वरित स्वीकार किया जाये।

Related Posts